23 SadhGuru Quotes In Hindi | सद्गुरु जग्गी वासुदेव के विचार

SadhGuru Quotes In Hindi

SadhGuru Quotes In Hindi

#1

अविश्वसनीय चीजें आसानी से की जा सकती हैं यदि हम उन्हें करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। 
SadhGuru


#2
आपकी शैक्षणिक योग्यता नही आपकी दिशा आपको अनोखा बनाती है। 
SadhGuru


#3
हमारी अपनी इच्छाओं में से अधिकांश इच्छाएं वास्तव में हमारी नहीं होती. सिर्फ समाज को दिखाने के लिए हम इन्हें अपनाते हैं। 
SadhGuru


#4
तुम अपनी ज़िन्दगी के मकसद को अपनी जरूरत बना लो, फिर वह तुमसे ज्यादा दूर नही होगी
SadhGuru


SadhGuru Quotes In Hindi


#5
कुंठा, निराशा और अवसाद का मतलब है कि आप अपने खिलाफ काम कर रहे हैं। 
SadhGuru


#6
ज़िम्मेदारी का अर्थ है कि आप अपने जीवन में किसी भी स्थिति का सामना कर सकते हैं। 
SadhGuru


#7
किसी एक को ख़ास बनाकर दूसरों से अलग हो जाना यह आपके अनुभव की कमी है। 
SadhGuru


#8
मुझे समझ नहीं आता कि लोग अपने दिमाग को नियंत्रित क्यों करना चाहते हैं। मैं चाहता हूँ कि वे अपने दिमाग को आज़ाद कर दें।
SadhGuru


SadhGuru Motivational Quotes in Hindi



SadhGuru Motivational Quotes In Hindi


#9
योग का मतलब असीमित के साथ सीमित होना है। 
SadhGuru


#10
नकारात्मकता आपको छु भी नही सकती अगर आप सकारात्मकता के बारे में सोचते हैं। 
SadhGuru


#11
जब कोई ज़रूरत से ज्यादा खाए और कोई भूखा रहे तो मैं उसे अनर्थ कहता हूँ।
SadhGuru


#12
आपकी ज्यादातर इच्छाएं वास्तव में आपकी नहीं होतीं। आप बस उन्हें अपने सामजिक परिवेश से उठा लेते हैं।
SadhGuru


#13
कितना अच्छा होता अगर ये दुनिया छोटे बच्चों द्वारा चलायी जाती, क्योंकि वे किसी और की तुलना में जीवन के ज्यादा करीब होते हैं।
SadhGuru

Love Quotes in Hindi By SadhGuru


SadhGuru Quotes In Hindi


#14
जो भी शर्तों पर आधारित है, वह प्रेम नहीं है।
SadhGuru


#15
प्रेम कोई काम नहीं बल्कि एक गुण है।
SadhGuru


#16
ख़ुशी, शांति और प्रेम – ये कोई आध्यात्मिक लक्ष्य नहीं हैं। यह सब तो समझदारीपूर्वक जीने की शुरुआत है।
SadhGuru


#17
 मूल रूप में, प्रेम का अर्थ हैः पसंदों और नापसंदों से ऊपर उठ जाना।
SadhGuru


#18
तर्क से परे एक आयाम है। जब तक आप वहां नहीं पहुंच जाते, आप ना तो प्रेम की मधुरता, ना ही ईश्वर को जान पाएंगे।
SadhGuru


SadhGuru thoughts in Hindi


SadhGuru Quotes In Hindi


#19
प्रेम की प्रक्रिया हमेशा एक मुक्ति की प्रक्रिया होनी चाहिए, उलझन की प्रक्रिया नहीं।
SadhGuru


#20
अगर आप चाहते हैं कि हर एक व्यक्ति आपके प्रेम मे पड़ जाए, तो सबसे पहले, आप उन सबके प्रेमी बन जाइये। 
SadhGuru


#21
अपने प्रेम, अपनी खुशी और अपने उल्लास को रोककर मत रखें। आप जो देते हैं, वही आपका गुण बन जाता है, न कि वह जो आप रोक कर रखते हैं।
SadhGuru


#22
अगर खुशी के आंसुओं ने, प्रेम के आंसुओं ने, परमानंद के आंसुओं ने आपके गालों को नहीं धोया है, तो आपने अभी तक जीवन का अनुभव नहीं किया है।
SadhGuru


#23
जब आपके प्रेम, आनन्द, और शांति किसी दूसरे पर निर्भर करते हैं, तो आप हर वक्त प्रेममय, आनन्दमय और शांतिमय नहीं हो सकते।
SadhGuru


Post a Comment

0 Comments